Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

कश्मीर को जिन्होंने बर्बाद किया उन्हें कभी मत भूलिएगा

 

कश्मीर के युवाओं ने कहा कि देश के हित में मतदान करें

*जौनपुर, ।* कश्मीर के हालात बदलने लगे है हुजूर, बस इतना ही कीजियेगा कि अब कश्मीरी नौजवानों के हाथों में बम, गोला, बंदूक और पत्थर मत पकड़ने दीजिएगा। अब तो ऐसे हालात बन गए है कि हम लोग कही भी आ जा सकते है। ये है कश्मीरी युवाओं के उद्गार जो 370 के खत्म होने के बाद जौनपुर में अनिवार्य मतदान के लिए जागरूक करने आये थे।

विशाल भारत संस्थान द्वारा डेहरी गांव में आयोजित पूर्वज, परम्पराओ, रिश्ते और मतदान विषयक संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में आये विशाल भारत संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ० राजीव श्रीगुरुजी ने गऊ माता को रोटी खिलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। संगोष्ठी में विशेष आमंत्रित जम्मू कश्मीर के सस्टेट वाईस चेयरमैन राजा रईस, पुलवामा के जिला चेयरमैन बेलाल अहमद, जिला वाईस चेयरमैन इशफाक अहमद ने आज के बदलते हालात की चर्चा की। राजा रईस ने कहा कि बदलते हालात ने हमे अपने देश से जुड़ने का मौका दिया है। आज हम बेखौफ होकर काम कर रहे है। कश्मीर का विकास हो रहा है। दहशतगर्दी से निजात मिल रही है। अब आप से यही कहने आया हूँ कि ऐसा मत करिएगा कि यह बदला हुआ समय पीछे लौट जाए और हम फिर से तकलीफ में आ जाएंगे।

पुलवामा के विशाल भारत संस्थान के जिला चेयरमैन बेलाल अहमद ने कहा कि मैं सरपंच था बावजूद इसके हमे कोई अधिकार नही था। अब लगता है कि हम भी भारत के हिस्सा है। अब डर नही लगता अब देश के लिए जीने का मन करता है। सेवा के जरिये हम भरोसा भी कायम करेगे। हमे ऐसी हुकूमत चाहिए जो हमारी इज्जत भी कर सके। अब हमें लोग दहशतगर्द नही समझते। बदले हालात में बड़ी मुश्किल से हमारे लोगो के चेहरे पर मुस्कान आयी है, इसे मत छीनिएगा।

विशाल भारत संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ० राजीव श्रीगुरुजी ने कहा कि जिन कश्मीरी युवाओं की पहचान पिछली हुकूमत ने एक पत्थरबाज के रुप मे कर दी थी, आज वही नौजवान सेवा कार्य कर रहा है और देश के लिए चिंता कर रहा है। पीओके के लिए कश्मीरी युवा चिंतित है, इसकी वापसी से कश्मीर पूरा होगा। विशाल भारत संस्थान ने सांस्कृतिक आदान प्रदान एवं परम्पराओ के साथ जीने के अभ्यास, रिश्तो को मजबूत करने के लिए नौशाद अहमद दूबे को पुलवामा जिले एवं जौनपुर का बेलाल अहमद को प्रभारी मनोनीत किया गया। कश्मीर के युवाओं को देश से जोड़ने और राष्ट्रभक्ति की भावना सीखने के लिए यह व्यवहारिक प्रयोग होगा।

विशाल भारत संस्थान की राष्ट्रीय महासचिव डॉ० अर्चना भारतवंशी ने कहा कि मतदान उसे करिए जो देश और कश्मीर के सम्मान से समझौता न करे।

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस रिसर्च सेंटर की निदेशक आभा भारतवंशी ने कहा कि मतदान से देश की मजबूत सरकार ही पीओके को वापस ला सकती है।

अनाज बैंक के डिप्टी चेयरमैन ज्ञान प्रकाश ने कहा कि कश्मीर में रिकार्ड मतदान ने पूरे भारत को संदेश दे दिया है कि अब लोकतंत्र से ही समस्या को समाधान करेगे।

संगोष्ठी का संचालन विवेकानंद सिंह एवं धन्यवाद नौशाद अहमद दूबे ने दिया।

इस कार्यक्रम में अल्लाउद्दीन भुल्लन, मो० सादिक, फरहान अहमद, सेराज अहमद, संतोष, जैद रघुवंशी, लल्लन प्रताप सिंह, इसहाक, गुलजार, मुजम्मिल, अब्दुल्लाह, ओबैदुल्लाह, आजम, अकसम रघुवंशी, गुफरान, अशरफ, कलामु, चन्दन सिंह, प्रवीण, सचिन, इली, खुशी, दक्षिता आदि लोग मौजूद रहे।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love