Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

वामपंथी किसान नेता अंजान का निधन

  • शनिवार को लखनऊ स्थित प्रदेश कार्यालय में अंतिम दर्शन 
  • अंतिम संस्कार में सम्मिलित होने जनपद से कार्यकर्ता रवाना
  • जौनपुर।भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के राष्ट्रीय सचिव एवं अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव अतुल कुमार अंजान का लंबे समय से कैंसर से जूझने के बाद 69 वर्ष की आयु में शुक्रवार को निधन हो गया। पार्टी नेताओं के अनुसार, अतुल कुमार अंजान ने सुबह करीब पौने चार बजे अंतिम सांस ली। उनका लखनऊ के मेयो अस्पताल में प्रोस्टेट कैंसर से इलाज चल रहा था

अतुल कुमार अंजान ने छात्र, किसान और मजदूर राजनीति में भी सक्रिय भूमिका निभाई। उन्होंने 1977 में लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष के तौर पर अपनी राजनीतिक यात्रा शुरू की। वे चार बार लखनऊ विश्वविद्यालय छात्रसंघ अध्यक्ष निर्वाचित हुए। इसके पूर्व उन्हें 20 साल की उम्र में नेशनल कॉलेज छात्रसंघ के अध्यक्ष चुना गया था। वे वर्षों तक ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे। छात्रों,किसानों और श्रमिकों के हितों के प्रति उनकी दृढ़ प्रतिबद्धता के कारण राजनीतिक क्षेत्र में उन्हें व्यापक सम्मान मिला। वे ऐसे विरले राजनीतिक शख्सियत रहे, जिन्हें पत्रकारों का भी भरपूर प्यार मिला।
मुजफ्फरपुर (बिहार) के मूल निवासी अंजान का का परिवार लखनऊ में बसा हुआ था। अंजान का जन्म स्वतंत्रता सेनानी एवं क्रांतिकारी डॉ. एपी सिंह के घर हुआ था। अंजान अपने पीछे पत्नी भारती सिंह एवं एकमात्र पुत्री विदुषी सिंह को छोड़ गए हैं। वह अपनी वाक् कला के लिए जाने जाते थे और उनका राजनीति में एक विशिष्ट स्थान था। उन्हें वामपंथी राजनीति का महत्वपूर्ण चेहरा माना जाता था। अतुल अंजान उत्तर प्रदेश में हुए पीएसी विद्रोह को लेकर भी चर्चा में रहे। अपने राजनीतिक सफर के दौरान उन्हें लगभग पांच साल जेल में बिताना पड़ा।
अतुल अंजान के निधन से राजनीतिक क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। सीपीआई के नेता एवं वरिष्ठ अधिवक्ता जयप्रकाश सिंह कामरेड के अनुसार दिवंगत नेता का पार्थिव शरीर शनिवार को सुबह 11:00 से 2:00 तक कैसरबाग स्थित की के राज्य कार्यालय में दर्शनार्थ रखा जाएगा, जहां उन्हें उनके साथी और राजनीतिक लोग श्रद्धांजलि देंगे। तत्पश्चात उनका अंतिम संस्कार लखनऊ में ही किया जाएगा। अतुल अंजान के निधन का समाचार सुनते ही जौनपुर में उनके परिचितों और पार्टी कार्यकर्ताओं में शोक की लहर दौड़ गई। पार्टी कार्यालय पर उनके सम्मान में लाल झंडा झुका दिया गया। पार्टी के जिला सचिव सालिकराम पटेल, कल्पनाथ गुप्ता और सुभाष चंद्र के नेतृत्व में जौनपुर से एक प्रतिनिधिमंडल अतुल अंजान को श्रद्धांजलि देने कल सुबह लखनऊ रवाना होगया।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love