Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

लखीमपुर खीरी में हुए किसानों के नरसंहार के विरोध में मनाया गया काला दिवस

बदलापुर ।लखीमपुर खीरी में किसानों के नरसंहार के मुख्य साजिशकर्ता, गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त करने और मुकदमा चलाने की मांग को लेकर देश भर के किसान और श्रमिक आज 3 अक्टूबर 2023 को देश भर के जिला और तहसील मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन, पुतला दहन और सार्वजनिक बैठकों के साथ काला दिवस के रूप में मना रहे हैं। इसी क्रम में किसान संगठन – ए.आई.के.के.एम.एस के कार्यकर्ताओं ने बदलापुर तहसील मुख्यालय पर भी विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया । इस मौके पर हीरालाल गुप्त, रामप्यारे, राम मिलन, लालता प्रसाद, जयप्रकाश पाण्डेय, रामलाल मौर्य, छोटेलाल, राजेंद्र प्रसाद तिवारी, सुखराज सरोज, राधेश्याम चौबे, शमीम अहमद, रामसिंगार दुबे, रामदेव मौर्य, इन्दुकुमार शुक्ल, शैलेन्द्र कुमार, देवनारायण, तालुकदार व अन्य मौजूद रहे। 

ए.आई.के.के.एम.एस के उत्तर प्रदेश राज्य सचिव मिथिलेश कुमार मौर्य ने कहा कि, संयुक्त किसान मोर्चा, केंद्रीय ट्रेड यूनियनों और महासंघों की ओर से 24 अगस्त 2023 को तालकटोरा स्टेडियम, नई दिल्ली में आयोजित किसानों और श्रमिकों के अखिल भारतीय संयुक्त सम्मेलन में ही आज के दिन काला दिवस मनाने का आह्वान किया गया था। विरोध दिवस की मुख्य मांग 2021 में लखीमपुर खीरी में किसानों के नरसंहार के कथित साजिशकर्ता गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी की बर्खास्तगी और उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की है। मंत्री और उनके बेटे आशीष मिश्रा टेनी नरसंहार के मास्टरमाइंड थे और चार किसान नक्षत्र सिंह, गुरविंदर सिंह, लवप्रीत सिंह और दलजीत सिंह और एक पत्रकार रमन कश्यप इस हमले में मारे गए थे। यह हमला कृषि के कॉरपोरेटीकरण के उद्देश्य से तीन कॉर्पोरेट समर्थक कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान संघर्ष को दबाने के लिए भाजपा की साजिश का हिस्सा था। उत्तर प्रदेश में भाजपा की राज्य सरकार ने आशीष मिश्रा टेनी और अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया। राज्य सरकार ने निर्दोष किसानों को भी गिरफ्तार कर जेल में डाला हुआ है। यह काला दिवस मेहनतकश जनता के जनवादी आंदोलन पर दमन/हमलों की सभी घटनाओं और ऐसे दमनकारी मंसूबों का मुकाबला करने और विरोध करने के दृढ़ संकल्प के साथ उनके अधिकारों पर हमले के विरोध का भी प्रतीक है।

मोदी केंद्रीय ट्रेड यूनियनों/फेडरेशनों और संयुक्त किसान मोर्चा मोदी सरकार की कॉरपोरेट परस्त, किसान विरोधी, मजदूर विरोधी और राष्ट्र विरोधी नीतियों का पुरजोर विरोध करता है।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love