Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

केंट राजौरी मुठभेड़ में शहीद, हैंडलर की रक्षा करते हुए गई जान

नई दिल्ली। भारतीय सेना की वीरता एवं सर्वोच्च बलिदान की गौरव शाली परंपरा है। अफसर और सैनिक ही नहीं आवश्यकता पड़ने पर सेना के प्रशिक्षित डॉग भी परंपरा का निर्वाह करने में खरे उतरते हैं। ऐसी ही परंपरा का निर्वहन करते हुए जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले के नरला इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच चल रही मुठभेड़ के दौरान भारतीय सेना के फाइटर डॉग’केंट’ ने अपनी हैंडलर की जान बचाते हुए अपनी जान दे दी.  

प्राप्त जानकारी के अनुसार जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले के नरला इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच चल रही मुठभेड़ के दौरान भारतीय सेना के कुत्ते ‘केंट’ ने एक भारतीय सेना के जवान की जान बचाते हुए अपनी जान दे दी. इस ऑपरेशन में एक आतंकवादी मारा गया है जबकि सेना ने अपने एक जवान को खो दिया. पीआरओ डिफेंस जम्मू ने कहा, “केंट भागते हुए आतंकवादियों की तलाश में सैनिकों की एक टुकड़ी का नेतृत्व कर रहा था. यह भारी गोलीबारी की चपेट में आ गया.”

केंट छह साल का था और 21 आर्मी डॉग यूनिट से था; वह क्षेत्र में तैनात भारतीय सेना की आतंकवाद विरोधी इकाई का हिस्सा थी। केंट ने अपनी सेवा के चार वर्षों में कई आतंकवाद विरोधी अभियानों में भाग लिया था। इससे पहले जम्मू-कश्मीर पुलिस ने भारतीय सेना के साथ मिलकर राजौरी के नरला बम्बल इलाके में एक आतंकी को ढेर कर दिया था.

पिछले साल अक्टूबर में, 28 आर्मी डॉग यूनिट के भारतीय सेना कुत्ते ‘ज़ूम’ की जान चली गई थी और उन्हें मरणोपरांत मेंशन इन डिस्पैच पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। ज़ूम की पिछले साल 13 अक्टूबर को दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में ऑपरेशन तंगपावा में दो बंदूक की गोली लगने से मौत हो गई थी।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love