Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

कैरियर बनाने कोटा गए दो ने की जिंदगी खत्म

कोचिंग हब में इस साल 23 कर चुके खुदकुशी, जिला प्रशासन एक्शन में

कोटा, । राजस्थान के कोटा में रविवार को दो छात्रों ने आत्महत्या कर ली। बिहार निवासी छात्र ने कमरे में फांसी लगा ली। वहीं, लातूर-महाराष्ट्र निवासी छात्र कोचिंग सेंटर की छत से कूद गया। पुलिस ने दोनों शव मोर्चरी भेज दिया है।

पहली घटना में बिहार से आए छात्र आदर्श ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। वह कोटा के कुन्हाड़ी थाना क्षेत्र स्थित एक मकान में रहता था। रविवार रात आठ बजे उसने खाना खाने के लिए कमरे का दरवाजा नहीं खोला जिसके बाद घटना का पता चला। दरवाजा तोड़कर उसे फंदे से उतारा गया। उसे कोटा के एमबीएस अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया गया।

वहीं, महाराष्ट्र के लातूर निवासी 17 वर्षीय आविष्कार संभाजी कासले ने विज्ञान नगर स्थित कोचिंग संस्थान में छात्र की कूदकर जान दे दी। वह नानी के पास रहकर नीट परीक्षा की तैयारी कर रहा था। वह 12वीं कक्षा का छात्र था। रविवार को कोचिंग में छात्र की साप्ताहिक परीक्षा थी। परीक्षा हॉल से बाहर निकलने के पांच मिनट बाद उसने आत्महत्या कर ली। छात्र परीक्षा देने के बाद बिल्डिंग के छठे माले पर गया और वहां से कूद गया।

कोटा में कोचिंग छात्रों के आत्महत्या करने से कई सवाल खड़े हो रहे हैं। अब तक इस साल 23 स्टूडेंट्स सुसाइड कर चुके हैं। इनमें से अधिकतर छात्रों के सुसाइड के पीछे वजह पढ़ाई को लेकर तनाव सामने आया है। इस तनाव को कम करने के लिए जिला प्रशासन, कोचिंग संस्थान और हॉस्टल अभी तक कामयाब नहीं हो सके हैं।

सुरक्षा के लिए छात्रावासों में लगा रहे जाल

राजस्थान के कोचिंग हब कोटा के छात्रावासों में आत्महत्या की घटनाओं को रोकने के लिए एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है। अब यहां बालकनियों और लॉबी में जाल लगाए जा रहे हैं। इससे पहले पंखों में स्प्रिंग उपकरण लगाने का कदम भी उठाया गया था। छात्रावास मालिकों ने बताया कि वे इस तरह की दुखद घटनाओं से बचने के लिए अपने परिसर को ‘आत्महत्या रोधी’ बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं। अधिकारियों के अनुसार, इस साल कोटा में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे 20 छात्रों ने आत्महत्या कर ली। यह अब तक किसी भी वर्ष में हुई सर्वाधिक घटनाएं हैं। पिछले साल यह आंकड़ा 15 था।

जिला कलेक्टर ओ पी बुनकर ने अधिकारियों को कोचिंग संस्थानों, हॉस्टल और पीजी के लिए दिशानिर्देशों को सख्ती से लागू करने का भी निर्देश दिया है. उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रत्येक हॉस्टल और पीजी रूम में सुरक्षा उपकरण लगे हों ताकि फांसी से होने वाली मौतों को रोका जा सके. कलेक्टर ने कोचिंग संस्थानों में रविवार का अवकाश अनिवार्य करने और उस दिन कोई परीक्षा नहीं कराने को भी कहा।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love