Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

गजब! हिंदुस्तान में हिंदी का ऐसा मखौल

एक विश्वविद्यालय के लिए ओवरी कल्चर का हिंदी अर्थ अंडाशय

 संस्कृति!

आगरा। डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों को शायद हिन्दी नहीं आती होगी। इसी के चलते अंग्रेजी के पेपर को हिन्दी में भी करने के लिए गूगल ट्रांसलेट का इस्तेमाल किया। इसी के चलते पूरा पेपर ही मजाक बन गया। क्योंकि गूगल कई स्थानों पर तो कल्चर को संवर्धन कर देता है। मगर वह कल्चर का संस्कृति के रूप में चुनता है।

विश्वविद्यालय के लिए कल्चर का मतलब सिर्फ संस्कृति है। यही वजह है कि विश्वविद्यालय ने ओवरी कल्चर में अंडाशय की संस्कृति नजर आयी और एम्ब्रियो कल्चर में भ्रूण की संस्कृति दिखायी दी। इसी संस्कृति को विश्वविद्यालय ने परीक्षा में छात्रों से पूछ लिया। स्थिति यह थी कि विवि ने पूरे पेपर में ‘कल्चर’ को संस्कृति ही बनाकर छात्रों से प्रश्न पूछ लिए। वहीं पेपर देखकर छात्रों से लेकर शिक्षकों तक ने सिर पकड़ लिया।

विश्वविद्यालय की बीएससी बायोटेक्नोलॉजी की परीक्षा से जुड़ा मामला है। विवि की ओर से बायोटेक्नोलॉजी की परीक्षा करायी जा रही है। इसमें गुरुवार को बीएससी बायोटेक्नोलॉजी तृतीय वर्ष की परीक्षा में प्लांट बायोटेक्नोलॉजी का पेपर था। विवि छात्रों को पेपर हिन्दी और अंग्रेजी भाषा में देता है। प्लांट बायोटेक्नोलॉजी के पेपर की हिन्दी ने विवि का मजाक बना दिया। इसमें छात्रों से एम्ब्रियो कल्चर को हिन्दी में भ्रूण संस्कृति बनाकर प्रश्न किया। वहीं ह्यूमन थेरेप्यूटिक्स को मानव चिकित्सा विज्ञान बताकर प्रश्न पूछे गए। इसी तरह से पेपर में अन्य स्थानों पर हिन्दी को इसी तरह लिखा कर अर्थ का अनर्थ कर दिया गया। वहीं पेपर की अंग्रेजी में भी व्याकरण गलतियां हैं।

इज्जत बचती, वहां भी संस्कृति बनाया

परीक्षा में प्रश्न संख्या चार में छात्रों से विभिन्न टॉपिक पर शॉर्ट नोट लिखने के लिए कहा गया। इसमें शूट टिप एंड मेरिस्टेम कल्चर पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखनी थी। पेपर में प्रश्न को हिन्दी में लिखने के दौरान मेरिस्टेम कल्चर के बाद कोष्ठक लगाकर कल्चर को (संस्कृति) लिख दिया गया। इसी तरह अन्य स्थानों पर भी गलती की गयी है।

परीक्षा नियंत्रक डॉ. ओमप्रकाश के अनुसार, पेपर के संबंध में कोई शिकायत नहीं मिली है। गलती हुई है, जांच करायी जाएगी। जांच कराने के बाद दोषी पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love