Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

पौष्टिक भोजन बेहतर ,सुविधएं और ढेर सारा प्यार सचमुच आपके पालतू है इसके हकदार

जौनपुर। जनपद में कई ऐसे पशु प्रेमी या डॉग लवर हैं जो बच्चों की तरह उनका अपने श्वान को प्यार और देखभाल कर रहे हैं। इनके रख रखाव और भोजन हजारों खर्च हो जाए उन्हें मलाल नहीं है। 

यह चलन सिर्फ शहरी में ही नहीं बल्कि ग्रामीण अंचलों में भी लोकप्रिय होता जा रहा है।

हालांकि यहां अभी कोई कैनल क्लब या ऐसी कोई सक्रियता नहीं है लेकिन फिर भी लोग उन।।।।ब्राडोर, बॉक्सर, मिनिएचर, विंचर, माल्टिन आदि ब्रीड के श्वानपालने लगे हैं।जिनका ध्यान वह अपने बच्चों की तरह रखते हैं। सच पूछिए कोविद कल के दौरान अपने अकेलेपन को कम करने के लिए बहुत से परिवारों में ने ने इन्हें अपनाया। देखभाल में खर्च होते हैं हजारों रुपये

इंसानों की तरह ही अलग अलग ब्रीड के श्वानों को पालने में हजारों रुपये का खर्च श्वान प्रेमी हजारों रुपये खर्च कर रहे है। यही नहीं इंसान ही नहीं श्वानों को भी पार्लर की जरूरत पड़ती है। माह में एक बार उनकी ग्रुमिंग आवश्यक है। जिससे उन्हें किसी प्रकार की स्किन से जुड़ी समस्या न हो। नाखुन से लेकर आई ब्रो तक उनकी पार्लर में ही बनाए जाते हैं, जिससे वह आकर्षक दिख सकें।

अंतरराष्ट्रीय डॉग दिवस

26 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय डॉग दिवस मनाया जाता है।  पहली बार अंतरराष्ट्रीय डॉग दिवस का आयोजन 26 अगस्त, 2004 को किया गया।  कुत्तों का महत्व समझाने के लिए इस दिन को मनाया जाता है।  26 अगस्त को मनाया जानेवाला ये दिवस सभी प्रजाति, आकार, नस्ल के बावजूद कुत्तों के महत्व की तरफ ध्यान आकर्षित करता है।

 

दवाएं भी बेहद महंगी

पशु चिकत्सा अधिकारी एवं विशेषज्ञ डॉक्टर धर्मेंद्र सिंह ने ने बताया कि पालतु श्वानों स्किन से जुड़ी समस्या, पेट की समस्या, खाना पाचन की समस्या अधिक रहती है। जिसके लिए उन्हें कई टीके और दवा दिए जाते हैं। जैसे बालों में टिक्स होने पर 700 रुपये से 2000 रुपये तक का टीका दिया जाता है। पारगो यानी उनके दस्त में खून आने पर टीका लगाया जाता है। हीट के लिए सीरम दिया जाता है। यही नहीं टूथपेस्ट, ओरल केयर, आंखों के कीचड़ को साफ करने के लिए स्टेन क्लीनर का प्रयोग किया जाता है।

 

इस दिवस का उद्देश्य

हर साल 26 अगस्त को मनाया जाने वाले इस दिन का उद्देश्य वफादार चार पैर वाले दोस्तों की दुर्दशा की ओर ध्यान आकर्षित करना और उन्हें गोद लेने के लिए प्रोत्साहित करना है।

 

पालतू श्वानों के उत्पाद बहुत महंगे

पालतु श्वानों के उत्पाद इंसानों के उत्पाद भी महंगे हैं। जनपद की अग्रणी पेट स्टोर चल पार्क कार्यरत बीनू राय ने बताया कि उनके सोने के लिए लाउंजर बेड 1500 से 3000 रुपये, स्वीमिंग पुल 10 से 15 हजार रुपये, 12 पीस डायपर 600 रुपये, ट्रेनिंग पैड 1500 रुपये में आता है। इसके अलावा उनके डायट में कैल्सियम बोन, बिस्किट, हॉट डॉग बार, चिकन स्टिक, चिकन लिवर, सूखी मछली आते हैं। उनके खेलने के लिए नूडल्स बॉल, स्पाइक बॉल, नॉट और यहां तक कि टाई और बो भी उनके स्पेशल आते हैं।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love