Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

बाजारों और कस्बों में सजने लगी हैं राखी की दुकानें

भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक रक्षा बंधन का त्योहार जैसे-जैसे करीब आ रहा है मछलीशहर तहसील क्षेत्र के विभिन्न बाजारों और कस्बों में राखी की दुकानें सजना शुरू हो गई हैं।राखी की दुकानों पर कारोबारियों ने अलग-अलग दामों की रंग-बिरंगी राखी से अपनी दुकानें सजाना शुरू कर दी हैं।आज के डिजिटल जमाने में बहुत से त्योहार मोबाइल पर मैसेज कर मना लिये जाते हैं लेकिन रक्षा बंधन एक ऐसा त्योहार है जिसे आफलाइन ही मनाना पड़ता है क्योंकि या तो बहनें खुद भाई की कलाई में राखी बांधने उनके पास जाती हैं या जिनके भाई परदेश हैं वे किसी माध्यम से राखी भाईयों के पास भेजती हैं।जिस कारण राखी की खरीदारी पहले से ही शुरू हो जाती है। मछलीशहर तहसील क्षेत्र के मुंगराबादशाहपुर और मछलीशहर कस्बे से फुटकर व्यापारी फुटकर में गांवों और छोटी बाजारों में राखी बेचने के लिए खरीदारी करके ले जा रहे हैं।ये दुकानें बंधवा, मीरगंज, तिलौरा, गोधना, सरायबीका, पवांरा, गरियांव, सुजानगंज आदि बाजारों में भी सज गई हैं। ज्यादातर कास्मेटिक की दुकानों, स्टेशनरी की दुकानों और जनरल स्टोर की दुकानों पर राखी बेची जा रही है।यह मछलीशहर कस्बे की एक कास्मेटिक और गिफ्ट सेन्टर पर सजी राखी की दुकान है जहां दुकानदार ने बताया कि उनके पास पांच रुपए से लेकर दो सौ रुपए तक की राखी है।राखी की बिक्री सर्राफ की दुकानों पर भी हो रही है। बंधवा बाजार में सर्राफा की दुकान चलाने वाले चंदन जायसवाल कहते हैं कि वजन के अनुसार उनकी दुकान पर पांच सौ से लेकर पैंतीस सौ रुपए तक की चांदी की पट्टेदार राखी उपलब्ध है और पैसे वाले शौकीन लोग खरीददारी भी कर रहे हैं।राखी की थोक और फुटकर दुकानों के साथ-साथ जंघई बाजार में पश्चिमी उत्तर प्रदेश से आये दर्जनों नवयुवकों का एक जत्था भी राखी की बिक्री मे हफ्ते भर से जुटा है।ये नवयुवक मछलीशहर-जंघई मार्ग के किनारे बसे मोलनापुर, बभनियांव,चौकी खुर्द, गोधना,सेमरी,करौर,जगदीशपुर, चितांव,बामी, भटेवरा,चौकी कला आदि गांवों में साइकिल पर राखी सजाकर डोर टू डोर राखी बेचने का कार्य कर रहे हैं।

बताते चलें कि इस वर्ष 30 अगस्त को ही सावन माह की पूर्णिमा शुरू हो जायेगी लेकिन भद्रा की शुरुआत होने के कारण रक्षा बंधन का शुभ कार्य कम उचित होता है। ऐसे में ज्योतिषियों के अनुसार 31 अगस्त को सुबह जल्दी ही रक्षाबंधन करना अधिक शुभकारी रहेगा। अवकाश तालिका में भी रक्षाबंधन का अवकाश 31 अगस्त को ही घोषित है।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love