Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

सावधान!कुत्तों में ब्लड प्रेशर और हार्ट की बीमारियों का बढ़ा रहा खतरा

खराब दिनचर्या और असंतुलित भोजन सिर्फ इंसानों को ही बीमार नहीं कर रहा बल्कि इसकी वजह से पालतू जानवर भी प्रभावित हो रहे हैं। जिस प्रकार से इंसानों में ब्लड प्रेशर बढ़ना, कम होना, हार्टअटैक, लिवर, किडनी फेल होने जैसी समस्याएं आ रही हैं, ठीक उसी प्रकार पालतू जानवरों में भी 

अब ऐसी समस्याएं बढ़ने लगी हैं।

कई कुत्तों की इन बीमारियों से मौत तक हो जा रही है।आपके पालतू कुत्ते जब इन गंभीर बीमारियों से ग्रसित होते है, लेकिन लेकिन जानकारी में करने के कारण प्राय बिना सही इलाज के ही दम तोड़ देते हैं।

140 से 160 के बीच होना चाहिए बीपी
कुत्तों की कई प्रजातियां हैं। प्रजातियों के अनुसार उनका सामान्य रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) अधिकतम 140 से 160 और न्यूनतम 50 से 80 के बीच होना चाहिए। यदि अधिकतम 200 और न्यूनतम 100 पहुंच जाए तो कुत्ते को लकवा ग्रस्त होने की आशंका बढ़ जाती है। डॉक्टरों के मुताबिक पालतू कुत्तों का बीपी नियमित जांच कराते रहना चाहिए।
जरूरत के अनुसार कुत्तों को नर्व मेडिसिन और कैल्शियम दिया जा जाता है।
इन बीमारियों का बड़ा कारण कुत्तों का वजन बढ़ना और विटामीन डी की कमी भी है। इससे लकवा मारने का भी खतरा होता है।

यह रखें सावधानी

● वेटनरी डॉक्टरों से ही इलाज कराएं
● कोई भी इंजेक्शन लगवाने से बचें
● कुत्तों को रोज टहलाएं ताकि वजन नियंत्रित रह सके
● रोजाना एक्सरसाइज कराएं
● बीपी की नियमित अंतराल पर जांच कराएं
● वेटनरी डॉक्टर से समय-समय पर सलाह लेकर डाइट प्लान बनवाएं
● दो समय ही भोजन दें, भोजन में पोष्टिक खाद्य पदार्थ दें
● पालतू जानवरों के व्यवहार में परिवर्तन, वजन बढ़ने जैसी समस्याओं पर नजर रखें#

10 प्रजातियों के कुत्ते लोग अधिक पालते हैं

आजकल कुत्ते पालना हर किसी का शौक बन चुका है। हर वर्ग के लोगों में अलग-अलग प्रजातियों के कुत्तों को पालने के प्रति आकर्षण देखा जा रहा है। अमूमन लोग लैब्राडोर, जर्मन शेफर्ड, बुलडॉग, पब, मालटीज, बीगलस, गोल्डन, जैक रसेल टेरियर, न्यूफाउंडलैंड और पोडल प्रजातियों के कुत्तों को रखने का शौक पाले हुए हैं।

पहचाने स्ट्रोक के लक्षण और जानें कारण

चलने में असमर्थता, सिर झुकाना, आंखों की असामान्य गति, आंखों की असामान्य स्थिति, चेतना की हानि, असामान्य व्यवहार, एक तरफ गिरना और अंधापन कुत्तों में स्ट्रोक के मुख्य लक्षण हैं। इन लक्षणों पर कड़ी नजर रखना और समय पर उपचार आपके कुत्ते को गुणवत्तापूर्ण जीवन देने में वरदान साबित हो सकता है। गुर्दे की बीमारी, कुशिंग रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह, हृदय रोग, रक्तस्राव विकार, हाइपोथायरायडिज्म और कैंसर जैसी कुछ अंतर्निहित बीमारियाँ हैं जो कुत्तों में स्ट्रोक का कारण बन सकती हैं। बीमारियों के अलावा, कुछ मामलों में स्टेरॉयड की उच्च खुराक स्ट्रोक का कारण भी बन सकती है।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love