Fastblitz 24

Search
Close this search box.

Follow Us:

जौनपुर: अपनों ने बहाया अपनों का खून, जमीन जायदाद के विवाद में दो हत्याएं

प्रशासन की अनदेखी पुलिस का बेजा हस्तक्षेप और विलंबित न्याय के कारण रोज चल रहे हैं लाठी-डंडे, रुक नहीं रही मौतें। 

जनपद के विभिन्न अंचलों विशेषकर ग्रामीण इलाकों से प्रतिदिन जमीन जायदाद के लिए विवादों की संख्या में बढ़ोतरी होती दिखाई पड़ रही है। विवाद, गाली गलौज, हाथापाई, लाठी-डंडे यहां तक कि हथियारों से भी वार प्रति वार होने लगे हैं। ज्यादातर मामले सगे भाइयों, पाटीदारों और पड़ोसियों के बीच उलझ जाते हैं। इस उलझन को सुलझाने में प्रशासन को अहम भूमिका निभानी चाहिए। प्रशासनिक अधिकारियों को प्राप्त अधिकार के सही प्रयोग और न्यायोचित निर्णय के साथ-साथ मामले को सुलझाने के लिए साम दाम दंड भेद का प्रयोग करते हुए स्वीकार्य हल निकलवाना चाहिए। और पुलिस को प्रीपुलिसिंग का इस्तेमाल करते हुए मारपीट या विवाद की स्थिति बनने से पहले ही निरोधात्मक उपाय करने चाहिए। लेकिन होता है इसका विपरीत प्रशासनिक अधिकारी व्यक्तिगत विवादों के मामले में हमेशा पल्ला झाड़ते नजर आते हैं और पुलिस कानून व्यवस्था बनाए रखना जिसकी जिम्मेदारी है, उसका मामलों में भेजा हस्तक्षेप पीड़ित पक्ष को उग्र बना देता है। रविवार को दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों में हुई मौतें इस बात का प्रमाण है।
सुजानगंज क्षेत्र के भैसरामपुर( प़ेमकापूरा) ग्राम सभा के पटेल बस्ती में ऐसे ही विवाद में भाई भाई का हत्यारा बन गया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त ग्राम सभा में जल निकासी को लेकर हुए विवाद में सगे भाइ ने रामसिंह पटेल पुत्र पारसनाथ पटेल उम्र 50 वर्ष को मारपीट कर हत्या कर दी।मृतक की पत्नी सोहगइला देवी ( चंद्रावती) पत्नी राम सिंह पटेल ने लिखित तहरीर देकर आरोप लगाया कि विनोद के ललकारने पर रामकरन, और सुमित्रा ने ईट पत्थर से मारपीट कर हत्या की है,वही पुलिस का का कहना है कि विवाद जरुर हुआ था, लेकिन उनकी मृत्यु पत्थर पर फिसल कर गिरने से हुई है, सूचना पर पुलिस पहुंची ने शव को कब्जे में लेकर विधिक कार्रवाई कर पोस्टमार्टम हेतु भेज कर घटना की आवश्यक कार्रवाई में जुट गई,वही प्रभारी निरीक्षक सै०मुतंजर ने बताया कि घटना में अधेड़ की मौत हुई है, पीड़िता के तहरीर के आधार पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और छापेमारी कर आरोपी भाई और उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया। इस घटना में दो लडके तीन बेटियों के सर से पिता का साया उठ गया।

वही दूसरा मामला बरसठी थाना क्षेत्र के कांटी गांव का है।जहां शनिवार की देर शाम विवादित जमीन पर पशु न बांधने की उलाहना देने गए 32 वर्षीय युवक की लाठी-डंडे से पीटकर कर अधमरा कर दिया गया। इलाज के लिए ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। मारपीट की घटना में दोनो पक्षो से कुल चार लोग घायल भी बताए जा रहे है। मृतक के पिता हरिश्चंद्र ने आरोपियों के खिलाफ थाने में तहरीर दी है। जानकारी के मुताबिक क्षेत्र के कांटी गांव में मृतक फूलचंद गौतम पुत्र हरिश्चंद्र का अपने पड़ोसी सगे चाचा लालचंद से घर के पीछे ग्राम समाज की जमीन पर कब्जे को लेकर विवाद था। विवादित जमीन पर लालचंद ने गाय बांध दिया था आरोप है कि, गाय ने फूलचंद की लड़की को मार दिया। बताया जा रहा है कि, जब शाम को फूलचंद काम पर से घर लौटा तो जानकारी हुई उसने अपने चाचा लालचंद से गाय न बांधने की उलाहना देने उनके घर गया था कि, आरोप है कि पड़ोसी सगे चाचा व उनके परिजन तू-तू मैं-मैं करते हुए धक्का-मुक्की पर आमादा हो गए। इसी बीच बात बढ़ी और लाठी-डंडे से जमकर मारपीट होने लगी। मारपीट में चाचा अपने परिजनों संग भतीजे को बेहरमी से पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। जिससे उसके सिर में चोट लगने से वह गंभीररूप से घायल हो गया और अचेत होकर गिर पड़ा। स्वजनो द्वारा आनन-फानन में सीएचसी बरसठी ले जाया गया। जहां हालत नाजुक देख चिकित्सको ने अन्यत्र रेफर करने लगे लेकिन स्वजनो ने भदोही स्थित किसी निजी अस्पताल में इलाज के लिए जैसे ही निकले थे कि बीच रास्ते मे ही उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है की, मृतक फूलचंद विवादित जमीन के रास्ते मे पशु न बांधने के लिए कई बार मना कर चुका था।

मृतक फूल चंदरा जगीर का काम करता था। उसकी पत्नी की डेढ़ वर्ष पूर्व ही हो चुकी है ।
परिजनों के मुताबिक फूलचन्द्र ही अपने बच्चों को माँ व पिता का प्यार-दुलार देकर उनकी परवरिश कर अपना फर्ज निभा रहा था।
फूलचंद राजगीर का काम करता था। जिससे परिवार का किसी तरह भरण-पोषण चल रहा था। वह तीन भाइयों में सबसे बड़ा पुत्र था। दोनो छोटे भाई प्रयागराज रहकर पढ़ाई करते है। बताया जा रहा है कि, मृतक युवक को दो मासूम बेटी मानसी 7 वर्ष व ममता 5 वर्ष और डेढ़ वर्ष का एक पुत्र शुभम हैं।

fastblitz24
Author: fastblitz24

Spread the love